Video

+91 9818994900

+91 9312642078

विष्टि करण

  • विष्टि करण
  • देवता : यम (मृत्यु) ।
  • समवर्ती नक्षत्र : भरणी संक्षेप में अभिप्राय : |
  • रोमांचक, निडर, आत्म-निर्भर, स्वतन्त्र, सहनशील |
  • सभी कार्यों में श्रेष्ठ होगा।
  • दूसरों के द्वारा जीता हुआ, राजाओं की सेवा करना, सहायकों द्वारा सम्मान प्राप्त करना ।
  • कृपण।
  • प्रत्येक व्यक्ति का विरोधी होगा, सार्वजनिक निन्दित, सामाजिक रुप से बहिष्कृत, सम्बन्धियों के साथ झगड़ा करना।
  • क्रूर, उग्र।।
  • पापी, पाप युक्त कार्यों का आदी, पाप युक्त कार्यों में रत होना ।
  • वह चीजें खाना जो निषिद्ध है। - दूसरी स्त्रियों के पीछे जाना।

Post a Comment

1 Comments

  1. Kya 43age mein vishti yog ko shanti kar sakate hai,kya asar hoga

    ReplyDelete